Rekha Kise Kahte hai – रेखा के बारे मे पूरी जानकारी

आज के इस लेख के माध्यम से हम जानने का प्रयास करेंगे की rekha kise kahte hai। दोस्तों आप सभी ने प्राइमरी स्कूल के दिनों में रेखा के बारे में जरूर पढ़ा होगा। 

रेखा गणित एक महत्वपूर्ण अध्याय है जिसे समझना काफी आवश्यक है अगर आप रेखा के संबंध में पूर्ण जानकारी रखते हैं तो आप गणित के विभिन्न प्रकार के सवालों को बड़ी सरलता से हल कर सकते हैं इसके बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए rekha kise kahte hai और इससे जुड़े वह सभी जानकारी जिसे एक सामान्य व्यक्ति के रोजमर्रा के जीवन और कैरियर को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक है उसके बारे में संपूर्ण चर्चा की गई है। 

Rekha Kise Kahte hai

Rekha Kise Kahte Hai

रेखा एक ऐसी शब्द है जिसका मतलब एक सीधा लाइन होता है। अगर हम किसी बिंदु से एकदम सीधा लाइन खींचते है तो वह लाइन रेखा होता है। रेखा की कोई निश्चित सीमा नहीं होती है कि इतने ही सीमा के अंदर रेखा को खींचा जा सकता है। रेखा एक ऐसा लाइन है जिसको हम दोनों तरफ से दाहिने साइड और बाएं साइड से जितना मन उतना और जब मन तब बढ़ा सकते हैं। 

अगर हम गणित की भाषा में बात करें तो रेखा बहुत सारे बिंदुओं का एक ऐसा समूह है जिसका कोई अंत नहीं होता। इस बिंदुओं के समूह से बने हुए इस मिश्रण का इस्तेमाल एक बिंदु से दूसरे बिंदु तक के रास्ते को दर्शाने के लिए किया जाता है जिसे हम आम भाषा में लाइन या रेखा कहते हैं। 

अगर कोई लाइन टेढ़ा मेढा है तो वह रेखा नहीं है। रेखा हमेशा सीधा होता है। रेखा किसी भी दिशा से किसी दूसरे दिशा की ओर खींचा जा सकता है। लेकिन वह हमेशा सीधा होना चाहिए। अगर कोई लाइन सीधा है तो वह रेखा है और अगर कोई लाइन टेढ़ा मेरा है तो वह रेखा नहीं है। 

दूसरे शब्दों में हम यह भी कह सकते हैं कि दो बिंदुओं के बीच खींचे जाने वाले लकीर को रेखा कहते हैं। लेकिन अगर वह लकीर टेढ़ा है तो उसे रेखा नहीं कह सकते हैं। रेखा की‌ न ही कोई प्रारंभिक बिंदु होती है और ना ही अंतिम बिंदु होती है। रेखा को हम दोनों तरफ से अनिश्चित लंबाई के लिए बढ़ा सकते हैं। हम आपको बता दें कि देखा की चौड़ाई नहीं होती है सिर्फ लंबाई होती है। 

रेखा कितने प्रकार का होता है 

हमने आपको ऊपर यह तो बता दिया की rekha kise kahte hai। लेकिन अब आपके मन में यह जानने की इच्छा उठ रही होगी कि रेखा कितने प्रकार के होते हैं। अगर आप जानना चाहते हैं कि रेखा कितने प्रकार का होता है। तो चलिए हम आपको रेखा के सभी प्रकार के बारे में विस्तार से जानकारी देते हैं। इसके साथ साथ हम यह भी बताएंगे कि किस रेखा को किस नाम से जाना जाता है। 

सरल रेखा 

अगर हम किसी समतल रेखा पर एक ऐसे बिंदु से रेखा खींचते हैं जिस बिंदु के पीछे हम उस रेखा को नहीं बढ़ा सकते हैं सिर्फ आगे ही उस रेखा को बढ़ा सकते हैं। तो वैसे रेखा को सरल रेखा के नाम से जाना जाता है। सरल रेखा हमेशा सीधी होती है और सरल रेखा को हम कभी भी बिंदु के पीछे नहीं खींच सकते हैं। उसे सिर्फ हम बिंदु के आगे ही अनिश्चित दूरी तक बढ़ा सकते हैं। 

वक्र रेखा 

अगर हम कभी किसी दो बिंदुओं के बीच में रेखा खींचते हैं और उस रेखा को दोनों बिंदु के पीछे भी बढ़ा सकते हैं तो उस रेखा को वक्र रेखा कहा जाता है। वक्र देखा भी हमेशा सीधी होती है। वक्र रेखा को हम कभी भी उसके दोनों साइड से अनिश्चित दूरी तक बढ़ा सकते हैं। 

सांगामी रेखा

जब हम किसी एक बिंदु से अनंत रेखा खींचते हैं तो उस रेखा को सांगामी रेखा कहा जाता है। कहने का मतलब यह है कि जब बहुत सारे रेखा का मूल बिंदु एक हो तो उन सारी रेखाओं को सांगामी रेखा के नाम से जाना जाता है। 

समांतर रेखा 

जब दो रेखाओं के बीच की दूरी शुरू से लेकर अंत तक एक बराबर होती है तो दोनों रेखाओं को समांतर रेखा कहते हैं। 

तिर्यक रेखा 

जब किसी दो समांतर रेखाओं को एक रेखा बीचो-बीच काटती है। तो उस रेखा को हम तिर्यक रेखा के नाम से जानते हैं। 

अगर आप रेखा के बारे मे वीडियो देख कर समझना चाहते है तो इसके बारे मे एक विस्तारपूर्वक विडिओ नीचे दिया गया है

निष्कर्ष 

आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हमने यह जाना कि rekha kise kahte hai और इसके साथ साथ हमने रेखा कि सभी प्रकारों के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त की। उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे यह आर्टिकल पसंद आया होगा और हमने इस आर्टिकल में जो भी जानकारी दी है वह आपको अच्छे से समझ में आ गई होगी। 

तो अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा और इसमें दी गई सारी जानकारी समझ में आ गई तो आप इसे अपने दोस्तों रिश्तेदारों और अपने सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले। आप इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट करके पूछ सकते हैं। 

Leave a Comment